लोकसभा चुनाव: बुरहानपुर प्रशासन के साथ वीसी पर संवाद


प्रतिनिधि/दि.१५ अमरावती-आगामी लोकसभा चुनाव को देखते हुए प्रतिबंधक उपायों के संदर्भ में अमरावती के जिलाधीश शैलेश नवाल व जिला ग्रामीण पुलिस अधीक्षक दिलीप झलके ने गुरूवार १४ मार्च को विडीयो कांफ्रेंसिंग के जरिये महाराष्ट्र की सीमा से लगे व मध्यप्रदेश की सीमा में स्थित बुरहानपुर जिले के जिला व पुलिस विभाग के प्रमुख से चर्चा की. बता दें कि, लोकसभा चुनाव के दौरान मध्यप्रदेश की सीमा से महाराष्ट्र में बडे पैमाने पर अवैध शराब आने की संभावना होती है.इसके साथ ही सीमा पार से बडे पैमाने पर हथियारों की तस्करी भी चलती है.

जिसके चलते दोनों जिला प्रशासन के बीच सीमा पर कड़ा बंदोबस्त लगाये जाने को लेकर आम सहमति बनी और दोनों जिलों के राजस्व व पुलिस प्रशासन ने सतर्क रहने के साथ ही इस हेतु संयुक्त पथक स्थापित करने का निर्णय भी लिया. इसके अलावा चुनाव के दौरान मध्यप्रदेश व महाराष्ट्र की सीमा के बीच पैसों की अवैध आवाजाही को रोकने हेतु हर वाहन पर कड़ी नजर रखने और उनकी जांच करने हेतु स्वतंत्र व्यवस्था करने पर भी दोनों जिलों के अधिकारियों के बीच चर्चा हुई. साथ ही दोनों जिलों में अनेकों मामलों में नामजद हिस्ट्रीशिटर अधिकारियों के संदर्भ में इस बैठक में जानकारी साझा की गई. जिनपर दोनों जिलों की अपराध शाखाओं द्वारा नजर रखी जायेगी. साथ ही किसी भी जानकारी के त्वरित आदान-प्रदान के लिए भी व्यवस्था उपलब्ध करायी जायेगी. ऐसा इस विडीयो कांफ्रेंसिंग बैठक में तय किया गया.

कंप्यूटर विशेषज्ञों की हुई नियुक्ति-
इसके साथ ही लोकसभा चुनाव के दौरान तकनीकी कामकाज का पक्ष संभालने हेतु जिलाधीश शैलेश नवाल ने गुरूवार को आठ लोगों की कंप्यूटर विशेषज्ञ के रूप में अलग-अलग तहसील कार्यालयों में नियुक्ति करने संदर्भ में आदेश जारी किया गया. साथ ही सार्वजनिक लोकनिर्माण विभाग द्वारा लोकसभा आचारसंहिता शुरू होने तक कितने काम शुरू किये गये थे और कितने काम शुरू किये जानेवाले थे, इसे लेकर निर्वाचन आयोग द्वारा मांगी गयी जानकारी को तत्काल भेजे जाने को लेकर हलचलेें शुरू की गई है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *