हमारा गठबंधन फेविकॉल का जोड है, टूटेगा नहीं-फडणवीस


भाजपा और शिवसेना की युती का मंत्र किसी जमाने में मुंंबई के रंगशारदा हॉल में भाजपा के दिवंगत नेता स्व. प्रमोद महाजन व हिंदु हृदय सम्राट स्व. बालासाहब ठाकरे ने दिया था. आज हम एक बार फिर उसी मंत्र का पुर्नउच्चार कर रहे है और हमारी यह युति केवल सत्ता के लिए किया गया गठबंधन नहीं है, बल्कि यह एक विरासत होने के साथ ही फेविकॉल का मजबूत जोड़ है, जो टूटेगा नहीं. इस आशय का प्रतिपादन युति पदाधिकारियों के सम्मेलन में राज्य के मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने किया. सीएम फडणवीस द्वारा की गई इस घोषणा के चलते उपस्थित भाजपा-सेना पदाधिकारियों व कार्यकर्ताओं में जबर्दस्त उत्साह संचारित हो गया.

इस समय अपने संबोधन में सीएम फडणवीस ने कहा कि, आगामी चुनाव पश्चात सत्तासुख के सपने देख रहें विपक्षी दलों ने भाजपा व शिवसेना के बीच युती न हो, इस हेतु हर संभव प्रयास करते हुए तरह-तरह की चालें चली थी और वे भाजपा व सेना के बीच झगड़ा लगाने व झगडा बढाने के लिए नानाविध उपक्रम भी कर रहे थे. किंतु अब जब भाजपा और शिवसेना के बीच युती हो गयी है तो यहां एक ओर विपक्षियों के चेहरे निष्तेज हो गये है, वहीं कुछ ने तो चुनावी मैदान से अपने पैर भी वापिस खिंच लीये. राकांपा प्रमुख शरद पवार का नार्मोल्लेख किए बिना कहे गये इस वक्तव्य का मर्म समझकर सभागृह में कोई भी अपनी हंसी नहीं रोक पाया. इस समय सीएम फडणवीस ने कहा कि, हमारी युती केवल सत्ता को लेकर किया गया गठबंधन नहीं है, बल्कि यह वैचारिकता का मेल है और हमें अपने हिंदुत्ववादी होने पर अभिमान भी है.

उन्होंने कहा कि, हमारा हिंदुत्व राष्ट्र के लिए है और जिसे अपने देश से प्रेम है. वहीं हमारा हिंदुत्व है. उन्होंने भाजपा व सेना के पदाधिकारियों व कार्यकर्ताओं से कहा कि, यह युती केवल आगामी चुनाव और सत्ता के लिए नहीं हुई है, बल्कि यह भविष्य में भी जारी रहेगी, अत: दोनों दलों के कार्यकर्ताओं ने एक-दूसरे के साथ मिलजुलकर बेहतरीन तालमेल व समन्वय के साथ काम करना चाहिए. अपने इस वक्तव्य के जरिये सीएम फडणवीस ने इशारों ही इशारों में इस बात का संकेत भी दे दिया कि, लोकसभा चुनाव के बाद राज्य में विधानसभा चुनाव भी भाजपा व सेना युती के तहत भी लडने जा रहें है. ज्ञात रहें कि, इससे पहले वर्ष २०१४ में लोकसभा चुनाव युती के तहत साथ लडने के बाद दोनों दलों ने विधानसभा चुनाव अलग-अलग लड़ा था.

अपने संबोधन में केंद्र व राज्य सरकार द्वारा सर्वहारा जनता एवं किसानों के लिए शुरू की गई योजनाओं एवं उन योजनाओं के परिणामों को अभुतपूर्व व उल्लेखनीय बताते हुए सीएम फडणवीस ने कहा कि, इस देश में इससे पहले गरीबी हटाओ का नारा देनेवालों ने केवल अपनी और अपने चेलेचपाटों की ही गरीबी को दूर करने का काम किया. किंतु हमने गरीबों को उनका अधिकारपूर्ण घर दिलाने के साथ ही उनके घरों तक बिजली व गैस की सुविधा भी पहुंचायी. इसके साथ ही भाजपा सरकार के कार्यकाल में देश में जितने रोजगार के अवसर उपलब्ध हुए उसमें से २७ फीसदी रोजगार के अवसर अकेले महाराष्ट्र राज्य में ही उपलब्ध हुए है. उन्होंने कार्यकर्ताओं से यह आवाहन भी किया कि, अपनी सरकार द्वारा किये गये कामों एवं हासिल उपलब्धियों को लेकर पूरी बेबाकी के साथ मतदाताओं के बीच जाये और उनका विश्वास हासिल करें.

उन्होंने कहा कि, हमने विगत पांच वर्षों के दौरान विकास के अनेकों चरणों को पार किया और अब भी काफी कुछ करना बाकी है. उन्होंने कहा कि, हमारे द्वारा विगत पांच वर्षों में किये गये कामों के चलते आज राज्य में भाजपा व सेना की अगली सरकार को लेकर जनता में सकारात्मक व विश्वासपूर्ण माहौल है. यहीं वजह है कि, भाजपा व सेना युती के चलते आज किसी भी टीम का कप्तान हमारे खिलाफ मैदान में उतरने को तैयार नहीें है. इस समय शरद पवार द्वारा चुनावी मैदान से अपने कदम पीछे खींच लिये जाने का उल्लेख करते हुए सीएम फडणवीस ने कहा कि, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के मुताबिक राकांपा प्रमुख शरद पवार को राजनीतिक हवा की दिशा समझती है.

अत: कहा जा सकता है कि, पवार साहब ने आगामी राजनीति की दशा व दिशा को समझते हुए ही चुनाव न लडना बेहतर समझा. उन्होंने जम्मु कश्मीर सहित पाकिस्तान से लगी अंतर्राष्ट्रीय सीमा व प्रत्यक्ष नियंत्रण रेखा पर जारी हालात का उल्लेख करते हुए कहा कि, देश में इससे पहले भी आतंकवादी वारदातें हुआ करती थी. किंतु इससे पहले के शासकों में आतंकवाद को मुंह तोड जवाब देने की धमक नहीं थी और पहली बार प्रत्यक्ष नियंत्रण रेखा सहित अंतर्राष्ट्रीय सीमा को पार कर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के समर्थ नेतृत्व में भारतीय सेना ने आतंक और आतंकियों को मुंह तोड जवाब दिया है. अत: आगामी लोकसभा चुनाव देश की सत्ता हेतु नहीं, बल्कि देश के विजय एवं देश के भविष्य हेतु है. अत: इस चुनाव में हमें उन लोगों को उनकी जगह दिखानी है और महाराष्ट्र सहित समूचे देश में भगवा झंडा फहराना है. अत: सभी ने इस बात के मद्देनजर अभी से काम में जुट जाना चाहिए.

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *