अभिनंदन को हाथ लगाते, तो पाकिस्तान पर परमाणू हमला हो जाता


हिं.स./दि.२३ नई दिल्ली-हिंदुस्तान टाईम्स की एक खबर ने आज देश में सनसनी मचा दी. खबर प्रकाशित की गई है कि २७ फरवरी को जिस दिन विंग कमांडर अभिनंदन वर्धमान पाकिस्तानी सेना के हाथ लगे थे, उस दिन भारत और पाकिस्तान के बीच युध्द जैसी स्थिति बन गई थी और यदि पाकिस्तान अभिनंदन को हाथ लगाता तो भारत की ओर से परमाणू हमला किये जाने की आशंका थी. इसके लिए भारत ने १२ परमाणू मिसाईल भी तैनात कर दिये थे. खबर के अनुसार वायू सेना के वैमानिक विंग कमांडर अभिनंदन को पाकिस्तान व्दारा पकडे जाने के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अत्यंत कठोर भूमिका ले ली थी. भारत की खुफिया एजेंसी रॉ के प्रमुख अनिल धसमाना ने आईएसआई चीफ लेफ्टनंट जनरल असीम मुनीर से संपर्क किया और धमकी दी कि, यदि अभिनंदन को हाथ लगाया तो नतीजे अच्छे नहीं होंगे.

इसी दिन भारत पाकिस्तान ने एक-दूसरे पर परमाणू दागने की तैयारी कर ली थी, जिसके तहत भारत ने राजस्थान में छोटे दर्जे की जमीन से जमीन तक मार करनेवाली १२ मिसाईल तैनात कर दी थी. इस संदर्भ में भी दोनों के बीच चर्चा हुई थी तथा अनिल धसमाना की तरह ही एनएसए अजीत डोभाल ने अमेरिका के एनएसएस जॉन बोल्टान व अमेरिका के विदेश मंत्री माईक पाम्पियो से हॉटलाईन पर चर्चा की थी. जिसके तहत डोभाल ने इन दोनों अमेरिकी नेताओं के समक्ष स्पष्ट कर दिया था कि, यदि भारतीय विंग कमांडर अभिनंदन वर्धमान को किसी भी तरह की शारीरिक हानी पहुंचायी जाती है तो भारत इसे कदापी सहन नहीं करेगा. साथ ही अजीत डोभाल व धसमाना ने संयुक्त अरब अमिरात व सऊदी अरब के अधिकारियों से भी इस विषय को लेकर चर्चा की थी कि, बिना किसी शर्थ के पाकिस्तान की इमरानखान सरकार द्वारा विंग कमांडर अभिनंदन की सकुशल रिहायी की जाये.

हिंदुस्तान टाईम्स को इस्लामाबाद स्थित सूत्रों के हवाले से मिली जानकारी के मुताबिक पाकिस्तान के सरकारी व सैन्य नेतृत्व को इस बात का डर था कि, २७ फरवरी की शाम भारत की ओर से उसके करीब ९ ठिकानों को मिसाईलों के जरिये निशाना बनाया जा सकता है. जिसके जवाब में पाकिस्तान ने भी भारत के १३ ठिकानों पर हमला करने हेतु अपने मिसाईल तैयार कर लिये थे.पाकिस्तानी नेताओं को अंदाज था कि, २७ फरवरी की रात ९ से १० बजे के बीच भारत की ओर से मिसाईल हमला किया जा सकता है. जिसके चलते पाकिस्तानी सेना ने इस्लामाबाद, लाहौर व कराची में सैन्य ठिकानों सहित रिहायशी बस्तियों में रात के समय फुल ब्लैक आऊट रखने का आदेश जारी किया था. इस जानकारी की पुष्टि लाहोर के गैर सरकारी हाऊसिंग सोसायटी व कराची के मालीर कैन्टोनमेंट में रहनेवाले लोगों द्वारा की गई है. वहीं मंत्रिमंडल की सुरक्षा समिती के सुत्रों ने बताया कि, आण्विक हमले के संदर्भ में तो उन्हें पता नहीं, किंतु विंग कमांडर अभिनंदन वर्धमान को जरा सी भी क्षति पहुंचने की स्थिति में मंत्रिमंडल द्वारा उचित कार्रवाई करने का सर्वाधिकार प्रधानमंत्री मोदी को दिया गया था तथा इसी लिहाज से भारत मिसाईल हमला करने के लिए पूरी तरह से तैयार था.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *