अमरावती का ‘पटेल’ और ‘दिनेश’ पुलिस के रडार पर

प्रतिनिधि/दि.४ मुंबई/ अमरावती-वक्त के साथ साथ चुनाव भी महेंगे होते जा रहे है. ऐसे में चुनाव आयोग द्वारा रकम खर्च करने की तय सीमा के बावजूद चुनाव में जमकर रूपये खर्च हो रहे है. चुनावों के दौरान एजेंसियों की चौकशीबढ़ जाती है, ताकि रूपयो की हेराफेरी पर निगाह बनी रहे. बावजूद इसके किसी भी हवाले से लेनदेन रूकता नहीं है. इसीलिए इस हवाले पर काबू पाने हेतु मुंबई स्थित देश के सबसे बड़े और अंडरग्राऊंड हवाला मार्केट पर पिछले १० दिनों में आयकर विभाग ने लगातार छापे मारे. चुनाव से जुड़ी सुरक्षा एजेंसियां भी इसमें आयकर विभाग का साथ दे रही है. पिछले १०दिनों में भुलेश्वर के फोफलवाडी १, फोफलवाडी-२ और भगतवाडी में हुई आयकर विभाग की भारी छापा मारी के बाद आंगडिय़ा का कारोबार सुस्त पड़ गया है. बाजार के सूत्र बताने लगे है कि २९ अप्रैल तक मुंबई से राज्य या देश में आंगडियां कारोबार से जुडी किसी भी सौदेबाजी या लेनदेन को सीधे तौर पर बंद करा दिया गया है. भूलेश्वर के आंगडिया मार्केट और जबेरी बाजार में पिछले १० दिनों में हुई आयकर की छापामारी में लगभग १० करोड़ रूपये की नकद राशि जप्त की गई है.

अमरावती के ‘पटेल’ से लिंक लगी, ‘दिनेश’ भी रडार पर –

पता चला है कि मुंबई में हवाला कारोबारियों पर आयकर व एन्टीकरप्शन ब्यूरों के संयुक्त छापे में राज्यभर के हवाला कारोबारियों की लिंक का पता चला है. अमरावती लोकसभा का चुनाव लड़ रहे एक अपक्ष उम्मीदवार हेतु मुंबई से अमरावती पैसा भेजा जा रहा था. छापे में इसका पता चल गया. जानकारी यह भी है कि इस हवाले के डेढ़ करोड़ रूपये पकड़े गये है. आयकर विभाग ने चूंकि चुनाव चल रहे है, चुनाव लड़ रहे उम्मीदवारों को हवाला से पैसा भेजा जा रहा है. इसीलिए मुंबई के हवाला मार्केट से मिली लिंक अलग-अलग शहरों में पुलिस को भिजवा दी है. यहां के एक आला पुलिस अधिकारी ने प्रस्तुत अखबार को बताया कि कॉटन मार्केट और चौधरी चौक परिसर से हवाला का कारोबार करनेवाला कोई पटेल उनकी (पुलिस) रडार पर है.

काफी पूछने पर भी इस अधिकारी ने पटेल का विस्तृत ब्यौरा देने से मना कर दिया. यह भी बताया गया है कि कोई ‘दिनेश’ नामक व्यय्ति भी पुलिस की जानकारी में है. पुलिस के आला अफसर ने यह बताया कि राजापेठ परिसर में इस दिनेश का ठिकाना है और पिछले तीन दिनों से पुलिस इसकी रेकी कर रही है. इस दिनेश के पुलिस विभाग में कॉन्स्टेबल लेबल तक अच्छे खासे संबंध है. इसीलिए वरिष्ठ लेबल पर और खूफिया तरीके से बाहर से यहां नौकरी करने आए पुलिस विभाग के अननोन फेस को दिनेश की रेकी पर लगाया गया है. आयकर विभाग के मुंबई डिवीजन के डिविजनल कमिशनर लेबल के अधिकारी ने यहां जानकारी भेजी है कि इस दिनेश के द्वारा ही अमरावती के एक उम्मीदवार हेतु हवाला से पैसा भेजा गया है. एक कन्सायमेंट के बारे में पुलिस को पुख्ता जानकारी भी मिली है. आनेवाले दो तीन दिनों में पुलिस सीधे तौर पर दिनेश से पूछताछ कर सकती है.

ठप पड़ा है ‘लेन-देन’

भूलेश्वर में ही १०० से ज्यादा आंगडिय़ा कारोबारी है. इनके जरिए सबसे ज्यादा व्यापार गुजरात और मुंबई से पूरे महाराष्ट्र में होता है. विश्वास की नींव पर चलनेवाले इस धंधे में १ लाख की वेल्यू वाली वस्तु या नकद पर जीरो पाईंट टू प्रतिशत कमीशन लिया जाता है. पार्सल भेजनेवाला केवल सामान की वेल्यू बाताता है. पार्सल में हीरे, जवाहरात और रूपये भी हो सकते है. आयकर विभाग की रेड के बाद सीधे तौर पर कोई लेन-देन नहीं हो रहा है.

कल हुई पुलिस की खुफिया बैठक
पुलिस के पास जानकारी है कि, दिनेश और पटेल मिलकर इस उम्मीदवार के लिए वाटप भी कर रहे है. राजापेठ और फ्रेजरपुरा पुलिस को अलर्ट कर दिया गया है. हमने पुलिस उपायुक्त से इस बारे में पूछा तो उन्होंने ‘नो कमेंट’ कहकर फोन काट दिया. लेकिन बैठक में शामिल क्राईम ब्राँच के एक अधिकारी के अनुसार राजापेठ और फ्रेजरपुरा पुलिस को एकनाथपुरम तथा कुछ अन्य इलाकों पर बारिक नजर रखने के लिए कहा गया है. यदि पुलिस को मिली सभी जानकारी पुख्ता साबित हुई तो अमरावती मेें भी किसी भी वक्त छापेमारी हो सकती है. दिनेश के बारे में भी पुलिस से काफी जांच पड़ताल की परंतु विस्तृत ब्यौरा नहीं मिल सका.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *