कक्षा १२ वी के छात्र को ट्रैय्टर ने कुचला, मौके पर ही हुई मौत


प्रतिनिधि/दि.२५
धारणी-यहां से पास ही स्थित दिया फाटे के
पास अपने दुपहिया वाहन पर सवार होकर कक्षा
१२ वी की परीक्षा देने हेतु जा रहे दो छात्रों को
विपरित दिशा से ईटे लादकर आ रहे ट्रैय्टर चालक
ने जबर्दस्त टक्कर मार दी. यह हादसा इतना भीषण
था कि, एक छात्र की मौके पर ही मौत हो गयी. वहीं दूसरा छात्र बुरी तरह घायल हो गया. इस घटना के
चलते समूचे क्षेत्र में जबर्दस्त शोक की लहर है.
इस संदर्भ में मिली जानकारी के मुताबिक सोमवार की सुबह १०.१५
बजे के आसपास आदित्य प्रकाश नायडे (१७, दिया) अपने मित्र अनिल
चिरोंजीलाल मावस्कर (१७) के साथ अपनी हिरोहोंडा स्प्लेंडर क्रमांक
एमएच २७/टी ९५०५ पर सवार होकर दहीहांडा स्थित जीवन विकास
विद्यालय के परीक्षा केंद्र की ओर जा रहे थे. बीच राह में उन्हें याद आया
कि, वे अपनी शालेय बैग घर पर ही भुल गये है और वे दिया गांव की ओर
वापिस लौटे. इसी समय विपरित दिशा से ईटे लादकर आ रहे तेज रफ्तार
ट्रैय्टर ने इन दोनों छात्रों की दुपहिया को जबर्दस्त टक्कर मार दी.

यह हादसा
इतना भीषण था कि, आदित्य नायडे की मौके पर ही मौत हो गयी, वहीं
अनिल मावस्कर बुरी तरह घायल हो गया. इस घटना की जानकारी मिलते
ही दिया गांव निवासियों ने रास्ते पर चक्काजाम करते हुए जमकर नारेबाजी
की और आरोपी वाहनचालक को जल्द से जल्द गिरफ्तार करने की मांग
की. इस समय तक धारणी पुलिस स्टेशन के थानेदार कुलकर्णी भी अपने
दल-बल सहित मौके पर पहुंच चुके थे और उन्होंने सभी ग्रामीणों को
समझाबुझाकर शांत किया. संतप्त ग्रामीणों का आरोप था कि, घटना के वक्त
दिया निवासी शैलेश उर्फ कालू मालवीय ट्रैय्टर चला रहा था, जो अल्पवयीन
है और उसके पास ट्रैय्टर चलाने का लाईसेन्स भी नहीं है. ग्रामीणों का
आरोप है कि, क्षेत्र में ऐसे बिना लाईसेन्सवाले वाहन चालकों द्वारा अय्सर
ही तेज रफ्तार वाहन चलाते हुए रेती व ईटों की ढुलाई की जाती है. जिसके
संदर्भ में इससे पहले भी पुलिस के पास अनेकों बार शिकायतें दी जा चुकी
है. यदि पुलिस ने इस संदर्भ में समय रहते कार्रवाई की होती तो आज यह
हादसा नहीं होता. समाचार लिखे जाने तक धारणी पुलिस थाने में १००१५०
संतप्त लोगों की भीड मौजूद थी, जो आरोपी ट्रैय्टर चालक के गिरफ्तारी
की
मांग कर रहीं थी, वहीं दूसरी ओर पुलिस ने घटनास्थल का पंचनामा
करते
हुए मृतक छात्र के शव को पोस्टमार्टम हेतु धारणी उपजिला अस्पताल
में
लाया था.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *