डॉ.पंजाबराव देशमुख जैविक खेती मिशन के अध्यक्ष पद पर प्रकाश पोहरे


अकोला- सेंद्रीय खेती, विषमुय्त खेती यह महाराष्ट्र शासन पुरस्कृत योजना अंतर्गत डॉ. पंजाबराव देशमुख जैविक खेती मिशन के अध्यक्ष पद पर प्रकाश पोहरे की राज्य शासन व्दारा नियुय्ति की गई है. यह मिशन विदर्भ के आत्महत्याग्रस्त ६ जिलों में चलाये जाने के साथ ही इसके पश्चात चरणबध्द तरीके से संपूर्ण राज्यभर में चलाया जायेगा. इसके लिये १०० करोड़ मंजूर किये गए हैं. दरमियान,गत दो ढाई दशक से सेंद्रिय खेती का पुरस्कार व प्रचार, प्रसार तथा प्रत्यक्ष उपक्रम व्दारा सेंद्रिय खेती को प्रधानता देने वाले पोहरे के कार्यों की दखल लेते हुए शासन व्दारा मिशन के अध्यक्ष पद पर उनका चयन किया है. दरमियान, पोहरे ने नियुय्ति पर मुख्यमंत्री फडणवीस का आभार माना है. अब सही रुप से सेंद्रीय खेतीसे इस मिशन को गति मिलेगी. विषमुय्त अन्य अनाज उत्पादित किये जा सकेंगे. उत्पादन खर्च कम होकर उपज बढऩे के साथ ही किसानों की आर्थिक प्रगति होने की बात भी पोहरे ने कही.

अनाज व संकरित तथा अन्य उपज के अधिक उत्पादन के लिये रासायनिक खाद, कीटकनाशक, फफूंद नाशक आदि का अधिक मात्रा में इस्तेमाल करने से पर्यावरण का संतुलन बिघडक़र जमीन के जैविक घटकों का नाश होने से जमीन मृतप्राय होती जा रही है. कैंसर सरीखी बीमारी घर करने के साथ ही गत दो वर्षों में कीटकनाशक औषधियों से राज्य के असंख्य किसान, खेत मजदूरों की मृत्यु हुई है. इसके लिये पर्याय के रुप में विषमुय्त सेंद्रिय खेती को प्रोत्साहन देने के लिये राज्य सरकार ने सेंद्रीय खेती मिशन चलाये जाने का निर्णय लिया है. जैविक तरीके से उत्पादित शेतमाल का सेंद्रिय प्रमाणीकरण, प्राथमिक प्रक्रिया, बाजारपेठ श्रृंखला, समूह गुट स्थापन कर इस माध्यम से खेती उत्पादन को बाजार पेठ के साथ उचित दाम, इससे किसानों का उत्पादन खर्च कम होकर सिर्फ नफा में बढ़ोत्तरी, तीन वर्ष में उपज की दृष्टि से बढोतरी इस मिशन अंतर्गत होने वाली है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *